* आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *

स्लिमों पर शिवसेना की मेहरबानीए इज्तिमा के वाहनों को कराया टोल फ्री

26-02-2018 17:40:22 पब्लिश - एडमिन



मुम्बई। राजनीति में कोई स्थायी मित्र या शत्रु अथवा समर्थक या विरोधी नहीं होता इस सच को हाल ही में महाराष्ट्र के औरगांबाद में सम्पन्न हुए तबलीगी जमात के इज्तमा में पहुंचने वाले वाहनों को टोल फ्री करा दिया है। सोशल मीडिया पर शिवसेना के बदले हुए रूख को बहुत कुछ लिखा जा रहा है। देश की राजनीति में प्रखर हिन्दुत्व की प्रतीक शिवसेना को आमतौर पर मुस्लिम विरोधी पार्टी माना जाता है। मुस्लिमों को लेकर शिवसेना नेताओं और प्रवक्ताओं के कई बयानों पर अतीत में काफी विवाद हो चुका है। 

महाराष्ट्र के औरगांबाद में आयोजित यह इज्तमा इसलिए काफी अहम माना जा रहा है कि संख्या के हिसाब से यह दुनिया के सबसे बड़े इज्तिमा में गिना जायेगा। चैकाने वाली बात यह सामने आयी कि शिवसेना ने जगह जगह बैनर और होर्डिग्स लगाकर इज्मिता में पहुंचने वाले लोगों के लिए स्वागत किया है। होर्डिग्स में शिवसेना की ओर से लिखा गया है किः.ष्ष्दुआओं में याद रखियेगा।ष्ष् हैरानी की बात है कि शिवसेना ने इज्तिमा में आने वाले तमाम वाहनों को टोल फ्री करा दिया है। शिवसेना के इस बदले हुए नजरिये की भरपूर तारीफ हो रही है।

राजनीति के जानकारों का कहना है कि महाराष्ट्र में नम्बर वन रही शिवसेना के दो नम्बर पर पहुंचने के चलते शिवसेना के रूख में आया बदलाव स्वाभाविक है। शिवसेना अपनी पुरानी हैसियत को प्राप्त करने के लिए बेचैन है। इसके लिए उसे पार्टी के परम्परागत मतदाताओं के अलावा अन्य समुदाय और वर्गों के मतदाताओं को जोड़ने की जरूरत महसूस हो रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की छवि के चलते बड़ी संख्या में बहुसंख्यक समुदाय के मतदाता भाजपा के प्रति झुके हैं जिसका खामियाजा शिवसेना को भुगतना पड़ा और वह नम्बर वन से नम्बर दो पर आ गई। हालांकि दबाव की राजनीति के चलते शिवसेना ने मुम्बई महानगर निगम का महापौर पद कब्जा लिया लेकिन अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव अकेले दम पर लड़ने का संकेत दे चुकी शिवसेना ने सोची समझी रणनीति के तहत मुस्लिमों के प्रति अपने रूख में बदलाव किया है। शिवसेना के इस बदलाव का मुस्लिमों पर कितना असर होगा यह तो समय बतायेगा लेकिन इतना तय है कि अगर शिवसेना राज्य के मुस्लिमों की आबादी पर थोड़ा बहुत असर डालने में कामयाब हो गयी तो वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में उसे इसका फायदा मिलने की संभावना से इन्कार नहीं किया जा सकता है।

उधर औरंगाबाद में आयोजित हो रहे इस विशाल इज्मिता में पहुंचे मुसलमानों से उलेमा ए दीन ने सच्चा मुसलमान बनने की अपील की है। उन्होंने कहा कि मुस्लिम इस्लाम के बुनियादी सिद्धान्तों को आत्मसात कर। यह अकीदे का आन्दोलन है। उलेमा ए दीन ने कहा कि इज्तिमा तब्लीगी जमात के लोगों में ही नहीं बल्कि उन लोगों में खासा लोकप्रिय हो गया है जो जमात से नहीं जुडे। इज्तिमा में उमडी अपार भीड़ को सम्बोधित करते हुए आयोजकों ने रवानी के समय धैर्य से काम लेते हुए अनुशासन बनाये रखने की अपील की है। गौरतलब है कि औरंगाबाद में आयोजित इस इज्मिता में भारतए पाकिस्तान और बांग्लादेश से बड़ी संख्या में लोगों ने भाग लिया है।


आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायतअपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें


 

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !