* आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *

दिलीप हत्याकांड से दलितों की नाराजगी से भाजपा परेशान

13-02-2018 20:54:11 पब्लिश - एडमिन



सोशल मीडियाः न्यूज इलाहाबाद

दिलीप हत्याकांड से दलितों की नाराजगी से भाजपा परेशान

इलाहाबाद। कुम्भनगरी इलाहाबाद के एक होटल में मामूली कहासुनी के बाद वकालत की पढ़ाई कर रहे दलित युवक दिलीप सरोज की पीट पीट कर की गयी निर्मम हत्या से न केवल इलाहाबाद बल्कि आसपास के जनपदों में भी दलित समाज से जुड़े संगठन सोशल मीडिया पर ‘‘जस्टिस फार दिलीप’’ मुहिम के तहत सक्रिय हो गये हैं। जुलूस और प्रदर्शनों का सिलसिला चल रहा है। हत्याभियुक्त का कनेक्शन सत्तारूढ़ भाजपा से होने के कारण भाजपा के लिए गम्भीर चुनौती खड़ी होती जा रही है। सोशल मीडिया पर दलित समाज यह तक कहता नजर आ रहा है कि भाजपा को चुनाव के समय ही हिन्दू नजर आते हैं, बाद में नहीं। आरएसएस और करणीसेना जैसे संगठनों को ललकारते हुए पूछा जा रहा है कि कासगंज का चंदन गुप्ता चूंकि हिन्दू था इसलिए सभी संगठन मुखर हुए लेकिन दिलीप दलित है इसलिए सब चुप है। आक्रोशित युवा संघ, करणी सेना और हिन्दू हितों पर मुखर रहने वाले संगठनों के खिलाफ खुलकर तीखे प्रहार कर रहे हैं।

यही भाजपा की चिन्ता का मुख्य कारण है। दरअसल गोरखपुर और फूलपुर में लोकसभा के उपचुनाव होने जा रहे है। दोनों लोकसभा क्षेत्रों में दलित समाज की निर्णायक आबादी है। पूर्व प्रधानमंत्री प. जवाहर लाल नेहरू फूलपुर से देश का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। भाजपा की प्रदेश सरकार में उपमुख्यमंत्री बनने के कारण पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य के इस्तीफे से फूलपुर और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस्तीफे से गोरखपुर लोकसभा सीट रिक्त हुई है। योगी आदित्यनाथ विधान परिषद के रास्ते सदन की सदस्यता की अनिवार्यता पूरी कर चुके हैं। भाजपा की चिन्ता इसलिए और ज्यादा बढ़ जाती है कि निकाय चुनाव में भी फूलपुर संसदीय क्षेत्र में भाजपा का प्रदर्शन खराब रहा है। ऐसे में दिलीप सरोज हत्याकांड से दलित आक्रोश भाजपा के लिए चुनौती खड़ा कर रहा है।

सर्वविदित है कि यूपी में लोकसभा और विधानसभा चुनाव में दलित और पिछड़ा समाज ने प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी के नेतृत्व में विश्वास व्यक्त करते हुए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी से किनारा करते हुए भाजपा का दामन वोटों से इस कदर भरा कि भाजपा लोकसभा की 80 में से 73 और विधानसभा की लगभग सवा तीन सौ सीटे जीतकर प्रचंड बहुमत प्राप्त करने में सफल रही। भाजपा के इतिहास का यह स्वर्णिम दौर है जिसमें दलित और ओबीसी समाज की निर्णायक भूमिका रही है। मगर देश के अलग अलग राज्यों में दलित उत्पीडन का ग्राफ बढ़ने से दलित समाज आक्रोशित है। सबसे खास बात यह है कि जिन राज्यों में दलित उत्पीड़न की घटनाएं बढ़ी हैं उनमें अधिकांश भाजपा शासित हैं। भाजपा विरोधी दल इस मुददे को जोरशोर से उठा रहे हैं। यूपी में समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी के साथ साथ कांग्रेस भी भाजपा को निशाने पर लिये हुए हैं।

दलित समाज की नाराजगी के बीच भाजपा का गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में विजय प्राप्त करना नामुमकिन तो नहीं लेकिन मुश्किल नजर आने लगा है। भाजपा के रणनीतिकारों के लिए दलितों की नाराजगी दूर करना गम्भीर चुनौती साबित हो रहा है। गौरतलब है कि नगर निकाय चुनाव में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने अच्छी वापसी के संकेत दिये हैं जिससे भाजपा की चिन्ताएं बढ़ी हैं। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव हो या सुश्री मायावती और कांग्रेस प्रमुख बने राहुल गांधी सभी भाजपा को घेरने का कोई मौका नहीं चूक रहे हैं। उपचुनाव की घोषणा के बाद इलाहाबाद में हुई दिलीप सरोज की हत्या ने सपा-बसपा और कांग्रेस को भाजपा पर हमले बोलने का असवर उपलब्ध करा दिया है। हत्याकांड के बाद सामने आ रहे दलित रोष से साफ जाहिर हो रहा है कि गोरखपुर से लेकर फूलपुर तक यह नाराजगी उपचुनाव को प्रभावित करेगी। राजनीतिक गलियारों में माना जा रहा है कि दोनों सीटों पर विपक्ष संयुक्त प्रत्याशी उतारने का इच्छुक हैं। फूलपुर से पूर्व सीएम सुश्री मायावती के चुनाव लड़ने की संभावना भले ही धूमिल हो लेकिन अगर सपा और कांग्रेस ने बसपा को समर्थन दे दिया तो भाजपा के लिए जीत हासिल करना मुश्किल हो सकता है। हालांकि बहुजन समाज पार्टी का इतिहास रहा है कि वह उपचुनाव में प्रत्याशी नहीं उतारती लेकिन ताजा परिस्थतियों में बहुजन समाज पार्टी उपचुनाव लड़ने को तैयार हो सकती है।

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !