aakrosh4media तक अपनी खबरे व् शिकायत पहुंचाने के लिए aakrosh4media2016@gmail.com पर मेल करें आप आक्रोश के सम्पादक संजय कश्यप को अपनी खबरे व् शिकायत WhatsApp भी कर सकते है WhatsApp NO है 9897606998, 9411111862, 7417560778

दिल्ली

9 जुलाई को हुआ एन .यु .जे महाराष्ट्र नेशनल सेमिनार

9 july... NUJ Maharashtra organised National level womans journalist seminar at Vasudev Balvant Fadake Auditorium, Panvel. In pic Rajendra Prabhu, Founder, National Union of Journalist India, Rasbihari, National President, NUJ, New Delhi, Pradnyanand Chaudhari, Member - Press Council of India, Kolkatta, Sukrut Khandekar, Editor - Navshakti, Manda Mhatre - MLA Navi Mumbai, & Sheetal Kardekar, General, NUJ Maharashtra.( pic by Ravindra Zende )

एक मीडिया कर्मी के द्वारा भेजे गये मेल के आधार पर 

आक्रोश4मीडिया इंडिया का no1 मिडिया पोर्टल है सिर्फ पत्रकार बन्धुओ के सहयोग से ही चल रहा है aakrosh4media.com हम व् हमारी आक्रोश की पूरी टीम आपकी राय और सुझावों की कद्र करती हैं। अतः आप अपनी राय, शिकायत , सुझाव और ख़बरें हमें This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. पर भेज सकते हैं या 9358606998 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। आक्रोश की आईडी है https://www.facebook.com/Aakrosh4media-608693262635672/ या आप ट्वीटर आईडी @aakrosh4media24 पर भी फॉलो कर सकते है 

दिल्ली एक बार फिर हुई शर्मशार, गुरुग्राम में एक पत्रकार की गोली मारकर हत्या 

देश की राजधानी यानी की दिल्ली इन दिनों क्राईम में नंबर वन चल रही है दिल्ली -एनसीआर के गुरुग्राम में शुक्रवार की दोपहर को मामूली कहासुनी के चलते बदमाशों में एक निजी चैनल के पत्रकार सुरेन्द्र राणा को गोलियों से भून डाला बताया जा रहा रहा हे की जिस समय ये घटना हुई उस वक्त पत्रकार सुरेन्द्र राणा अपनी सफारी गाडी से झाड़सा की ओर से सिविल लाइंस एरिया में जा रहे थे पत्रकार सुरेन्द्र राणा ने झाड़सा रोड पर बने शराब के ठेके से शराब खरीदी और उसके बाद जैसे ही गाड़ी लेकर आगे निकले पीछे से एक सेंट्रो गाडी ने पत्रकार सुरेन्द्र राणा की गाडी के आगे अपनी गाडी लगा दी इस बात को लेकर पत्रकार सुरेन्द्र राणा जब उनसे बात करने के लिए अपनी गाडी से उतरे तो किसी बात को लेकर आपस में हाथापाई शुरू हो गई जिसके बाद बदमाशों ने पत्रकार सुरेन्द्र राणा की लाइसेंसी रिवाल्वर छीनकर पत्रकार सुरेन्द्र राणा को 5 गोलिया मार दी जिससे सुरेन्द्र राणा की अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में ही मौत हो गई बताया जा रहा मृतक सुरेन्द्र राणा की कार में JK 24x7 News चैनल का अथॉरिटी लेटर, माइक आईडी और कार पर स्टिकर लगा मिला है। फिलहाल पुलिस आसपास के सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है जिससे की आरोपियों का सुराग मिल जाए चश्मदीदो का यहाँ तक कहेना है की ये हत्या रोडरेज का भी हो सकता है और प्लानिंग के तहत भी ये हत्याकांड हो सकता है फिलहाल गुरुग्राम पुलिस हर एंगल से जांच में जुट गई है अब देखना होगा की कब तक ये हत्यारे पुलिस की गिरफ्त में होंगे 

दिल्ली से एक मीडिया कर्मी की रिपोर्ट के आधार पर 

आक्रोश4मीडिया इंडिया का no1 मिडिया पोर्टल है सिर्फ पत्रकार बन्धुओ के सहयोग से ही चल रहा है aakrosh4media.com हम व् हमारी आक्रोश की पूरी टीम आपकी राय और सुझावों की कद्र करती हैं। अतः आप अपनी राय, शिकायत , सुझाव और ख़बरें हमें This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. पर भेज सकते हैं या 9358606998 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। आक्रोश की आईडी है https://www.facebook.com/Aakrosh4media-608693262635672/ या आप ट्वीटर आईडी @aakrosh4media24 पर भी फॉलो कर सकते है 

सुप्रीमकोर्ट के नए आदेश से लोकमत प्रबंधन की जान सांसत में

सुप्रीमकोर्ट के नए आदेश से लोकमत प्रबंधन की जान सांसत में,लगभग 2400 ठेका कर्मचारियों का  30 जून से नही हुआ कांट्रेक्ट रिनुअल

माननीय सुप्रीमकोर्ट के 19 जून 2017 को आये नए आदेश के बाद महाराष्ट्र में सबसे बड़ा झटका लोकमत अखबार को लगा है ।सूत्रों के मुताबिक महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा लोकमत समुह में ठेका कर्मचारी हैं और सुप्रीमकोर्ट ने अपने 19 जून के आदेश में साफ कर दिया है कि ठेका कर्मचारियों को भी मजीठिया वेज बोर्ड का लाभ मिलेगा।अब लोकमत प्रबंधन  सुप्रीमकोर्ट के इस आदेश के बाद सबसे ज्यादा सांसत में फंस गया है। लोकमत श्रमिक संगठना के अध्यक्ष संजय पाटिल येवले ने इस खबर की पुष्टि करते हुए एक नई जानकारी दिया है कि लोकमत समूह में लगभग 3000 कर्मचारी काम करते हैं जिनमे सिर्फ 20 प्रतिशत परमानेंट हैं बाकी 80  परसेंट कांट्रेक्ट पर हैं।सुप्रीमकोर्ट के नए आदेश के बाद कंपनी ने अधिकांश कांट्रेक्ट कर्मचारियों का कांट्रेक्ट नवीनिकरण नही किया है।संजय पाटिल येवले के मुताबिक इन कांट्रेक्ट कर्मचारियों का कांट्रेक्ट 30 जून को खत्म हो गया मगर कंपनी एक सप्ताह बाद तक किसी का कांट्रेक्ट रिनुअल नही कर रही है बल्कि मजीठिया का लाभ देने से कैसे बचा जाए और नया कांट्रेक्ट किस तरीके का हो इसपर कानूनी विशेषज्ञ से सलाह ले रही है ।उसके बाद ही नया कांट्रेक्ट किया जाएगा।लोकमत समुह से उड़ती खबर ये भी आरही है कि लोकमत ने कई कर्मचारियों को नए आदेश के बाद छुट्टी भी कर दिया है और अब इनमें से कई कर्मचारी मजीठिया की जंग में कूदने की तैयारी कर रहे हैं ताकि उनको उनका अधिकार मिले।आपको बतादें कि संजय पाटील येवले 

लोकमत श्रमिक संघटना के अध्यक्ष हैं और पिछले तीन साल से यह बाहर हैं।

युनीयन का लेबर, इंडस्ट्रीयल, हाइकोर्ट मे मैटर चल रहा है।संजय पाटिल जब लोकमत में काम पर थे तो उन्होंने सिर्फ एक कर्मचारी को निकाले जाने पर दो दिन का असहयोग आंदोलन किया था।आपको बतादें कि लोकमत समूह मराठी दैनिक लोकमत ,हिंदी दैनिक लोकमत समाचार और अंग्रेजी दैनिक लोकमत टाइम्स का प्रकाशन करता है।लोकमत समूह की यूनियन लोकमत श्रमिक संगठना ने एक्चुअल वर्क एक्चुअल पे की मांग को लेकर प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा भी कर रखा है।फिलहाल सुप्रीमकोर्ट के नए आदेश के बाद प्रबंधन की सांस गले मे अटक गई है।

शशिकांत सिंह,पत्रकार और आर टी आई एक्सपर्ट

आक्रोश4मीडिया इंडिया का no1 मिडिया पोर्टल है सिर्फ पत्रकार बन्धुओ के सहयोग से ही चल रहा है aakrosh4media.com हम व् हमारी आक्रोश की पूरी टीम आपकी राय और सुझावों की कद्र करती हैं। अतः आप अपनी राय, शिकायत , सुझाव और ख़बरें हमें This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. पर भेज सकते हैं या 9358606998 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। आक्रोश की आईडी है https://www.facebook.com/Aakrosh4media-608693262635672/ या आप ट्वीटर आईडी @aakrosh4media24 पर भी फॉलो कर सकते है

मजीठिया वेज बोर्ड : दिल्ली, बिहार,हरियाणा ,हिमांचल प्रदेश सहित कई राज्यो ने नहीं गठित किया त्रिपक्षीय कमेटी

देश भर के प्रिंट मीडिया कर्मियों के वेतन,एरियर और प्रमोशन के लिए गठित जस्टिस मजीठिया वेज बोर्ड मामले में त्रिपक्षीय समिति गठित करने का आदेश दिया गया था मगर देश की राजधानी दिल्ली सहित कई राज्यो में त्रिपक्षीय कमेटी का गठन नहीं किया गया।जिन राज्यो में त्रिपक्षीय कमेटी का गठन नहीं किया गया वे राज्य हैं दिल्ली,हिमांचल प्रदेश,जम्मू कश्मीर,सिक्किम, दमन दीव,पांडिचेरी,लक्ष्य दीप और बिहार तथा हरियाणा।आपको बतादें कि त्रिपक्षीय समिति में अखबार मालिक,पत्रकार या और उनके यूनियन के सदस्य तथा कामगार आयुक्त या उनके द्वारा अधिकृत अधिकारी शामिल होते हैं । इस समिति का काम होता है आपस में तालमेल कर माननीय सुप्रीमकोर्ट के आदेश का पालन कराना ।मगर जब कमेटी ही नहीं गठित हुयी तो तालमेल कैसा।राज्य स्तर पर बनी ये कमेटी केंद्र सरकार द्वारा गठित सेन्ट्रल मॉनिटरिंग कमेटी को रिपोर्ट करती है ।आइये अब जिन राज्यो में ये कमेटी गठित की गयी है वहां ये त्रिपक्षीय कमेटी क्या करती है ये भी बतादें।इस कमेटी को कोई भी वैधानिक पावर नहीं है।सो ये कमेटी चाहकर भी कोई ठोस कदम नहीं उठा सकती।जब भी इन त्रिपक्षीय कमेटी की कामगार आयुक्त कार्यालय में मीटिंग होती है।कमेटी मेम्बरों को प्रगति रिपोर्ट बतायी जाती है ।उनका पक्ष समझा जाता है और चाय नाश्ते के बाद ये मीटिंग ख़त्म हो जाती है।सो आप समझ सकते हैं इस त्रिपक्षीय कमेटी का होना ना होना बराबर की बात है।कई राज्यो का तो दावा है कि उनके यहाँ मजीठिया वेज बोर्ड के लागू होने के पहले से त्रिपक्षीय कमेटी बन चुकी है।

(शशिकांत सिंह,पत्रकार और आर टी आई एक्सपर्ट)

आक्रोश4मीडिया इंडिया का no1 मिडिया पोर्टल है सिर्फ पत्रकार बन्धुओ के सहयोग से ही चल रहा है aakrosh4media.com हम व् हमारी आक्रोश की पूरी टीम आपकी राय और सुझावों की कद्र करती हैं। अतः आप अपनी राय, शिकायत , सुझाव और ख़बरें हमें This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. पर भेज सकते हैं या 9358606998 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। आक्रोश की आईडी है https://www.facebook.com/Aakrosh4media-608693262635672/ या आप ट्वीटर आईडी @aakrosh4media24 पर भी फॉलो कर सकते है 

इंटरनेशन मिडीया फाउंडेशन कर रहा लड़का फरोशी का गन्दा खेल

पत्रकार और पत्रकारिता दोनों ही शब्द एक विश्वनीयता का प्रतीक हैं मगर कुछ फर्जी संस्थान इसकी आड़ में गन्दा खेल चला रहे होंगे। आप लोगो ने जिस्म फ़रोशी शब्द तो सुना होगा जो कि कॉल गर्ल के लिए उपयोग होता हैं मगर आपने लड़का फरोशी जिसे अंग्रेजी में प्ले बॉय कहते हैं यह शब्द नही सुना होगा ।सोशल नेटवर्किंग साइट में आज एक युवती ने शिकायत की व सबूट सहित बताया कि इंटरनेशन मिडीया फाउंडेशन जो कि ग्रेटर नोयडा से संचालित होता हैं उसमें मुझे प्ले बॉय से दोस्ती करने का आफर आया। जब उस संवाद के सभी सबूट देखे जो अटैच है नीचे आप सभी देखे लगभग इस तरह थे। संवाद के कुछ अंश प्रस्तुत हैं:
 
युवती ..hi
 
इंटरनेशन मिडीया फाउंडेशन :हेल्लो कैसे हो 
युवती.. हम अच्छे है और आप?
 
इंटरनेशन मिडीया फाउंडेशन.. क्या नाम है आपका।
युवती ...(नाम गुप्त रखा गया हैं।)
 
इंटरनेशन मिडीया फाउंडेशन: क्या करते हो आप और कहा रहते हो?
युवती ...थोड़ी बहुत समाज सेवा और दिल्ली रहती हूँ।
 
इंटरनेशन मिडीया फाउंडेशन:गुड वर्क
 
इंटरनेशन मिडीया फाउंडेशन...हम प्लेबॉय सर्विस चलाते हैं महिलाओं के लिए।
 
युवती ...क्या समझी नही में?
 
इंटरनेशन मिडीया फाउंडेशन.. हमारा नाम केशव है ग्रेटर नोयडा से हूँ  हम लोग तलाकसुदा और विधवाओं की मदद करते।
 
युवती ..क्या आप शादी कराते हैं उनकी?
 
इंटरनेशन मिडीया फाउंडेशन...नही महिलाओं की पुरुषों से दोस्ती कराते हैं फिर उनकी डेटिंग का भी जुगाड़ करते हैं।
 
दोस्तो ये था बातचीत के कुछ अंश पत्रकारिता मीडिया जैसे पवित्र शब्द को गन्दा कर रहे इंटरनेशन मिडीया फाउंडेशन जैसे संगठनों को समाज से बहिष्कार करना पड़ेगा वरना यह पूरे देश मे पत्रकारिता शब्द को गन्दा कर देंगे।

          If there is any queries feel free to call me…….

 Thanks & Regards

Naveen Dwivedi

9910091121

*Editor(Shipra Darpan)

*National Spokesperson (भारतीय पत्रकार कल्याण संघ)

 Email:- naveendwivedi.pimr@gmail.com

आक्रोश4मीडिया इंडिया का no1 मिडिया पोर्टल है सिर्फ पत्रकार बन्धुओ के सहयोग से ही चल रहा है aakrosh4media.com हम व् हमारी आक्रोश की पूरी टीम आपकी राय और सुझावों की कद्र करती हैं। अतः आप अपनी राय, शिकायत , सुझाव और ख़बरें हमें This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.  पर भेज सकते हैं या 9358606998 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। आक्रोश की आईडी है https://www.facebook.com/Aakrosh4media-608693262635672/ या आप ट्वीटर आईडी @aakrosh4media24 पर भी फॉलो कर सकते है