* आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *

एक चपरासी ने चटाई लोकमत को धूल हाईकोर्ट ने दिया १२ लाख रुपये देने का निर्देश 

14-12-2017 21:26:30 पब्लिश - एडमिन



महाराष्ट्र के प्रमुख मराठी दैनिक लोकमत से एक बड़ी खबर आरही है। यहां एक चपरासी पद पर कार्यरत कर्मचारी कोे नौकरी से निकालना प्रबंधन को भारी पड़ गया। इस चपरासी ने लंबी कानूनी लड़ाई लड़ी और लोकमत प्रबंधन को धूल चटा दिया। मुंबई हाईकोर्ट ने एक आदेश जारी कर लोकमत प्रबंधन को निर्देश दिया है कि वह इस कर्मचारी को बारह लाख रुपये का भुगतान करे। बताते हैं कि मराठी दैनिक लोकमत में प्यून पद पर कार्यरत उत्तम पूत्र लक्ष्मणराव लोधी को लोकमत प्रबंधन ने वर्ष १९९२ में सिर्फ इसलिये नौकरी से निकाल दिया था कि यह कर्मचारी कंपनी के गेट पर घर जाते समय चेकिंग कराना भूल गया या झटके से निकल गया। इस कर्मचारी को नौकरी से निकाले जाने के बाद उसने भी ठान लिया कि कंपनी प्रबंधन को धूल चटानी है। उसने जाने माने एडवोकेट एस. डी. ठाकुर से मदद मांगी और उनके जरिये लोकमत प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा कर दिया। मुकदमा लेबरकोर्ट, इंडस्ट्रीयल कोर्ट तक चला। इस दौरान ६ जून २००८ को उत्तम रिटायर हो गया। वह नौकरी छुटने के बाद गांव गया। भेड़ चराया लेकिन स्वाभिमान से समझौैता नहीं किया। मामला मुंबई उच्च न्यायालय तक पहुंचा। जहां न्यायालय ने दोनो पक्ष में एस डी ठाकुर की मौजूदगी की सहमति से समझौता वार्ता कराया और लोकमत प्रबंधन को निर्देश दिया कि वह इस कर्मचारी को २४ अगस्त १९९२ से ६ जून २००८ तक का वेतन और अन्य राशि मिलाकर लमसम कुल १२ लाख रुपये का भुगतान करे। यह भुगतान लोकमत प्रबंधन को ३० जनवरी २०१८ से पहले करना होगा। अगर लोेकमत प्रबंधन ने ऐसा नहीं किया और पैसा देने में फेल हुआ तो उसे इस कर्मचारी को १ मार्च २००९ से जब तक उसका बकाया नहीं देता है तब तक का ९ प्रतिशत प्रतिवर्ष के हिसाब से ब्याज का भुगतान भी करना होगा। यह आदेश मुंबई उच्च न्यायालय की नागपुर खंडपीठ ने रिट पिटिशन नंबर ९७९/२०१६ की सुनवाई करते हुये दिया है। यह रिट पिटिशन लोकमत मीडिया प्राईवेट लिमिटेड की ओर से दायर की गयी थी जिसमें उत्तम पुत्र लक्ष्मण राव लोही निवासी काटोल, पेठ बुधवार, धंगरपुर, नागपुर के अलावा इंडस्ट्रीयल कोर्ट नागपुर और लेबरकोर्ट नागपुर को भी लोकमत ने पार्टी बनाया था। उत्तम के खाते में यह पैसा सीधे लोकमत प्रबंधन को जमा करना होगा या फिर डिमांड ड्राफ्ट के जरिये यह पैसा उसको देना होगा। इसके साथ ही मुंबई उच्च न्यायालय की नागपुर खंडपीठ ने यह भी आर्डर दिया है कि कर्मचारी के एडवोकेट एस डी ठाकुर पालेकर अवार्ड, बछावत अवार्ड, और मणिसाना अवार्ड के लिये अलग से क्लेम लगायें। इस कर्मचारी के एडवोकेट एम डी ठाकुर ने मुंबई उच्च न्यायालय के इस निर्णय का स्वागत किया है। उन्होने कहा है कि यह आर्डर उचित है। अब हम पालेकर अवार्ड, बछावत अवार्ड और मणिसाना अवार्ड की लड़ाई में भी इस कर्मचारी के साथ हैं। आपको बतादें कि एस डी ठाकुर ने ही लोकमत के कर्मचारी महेश साकुरे  का मुकदमा लड़ा था और उन्हे जीत दिलायी थी। 

शशिकांत सिंह 
पत्रकार और आरटीआई एक्सपर्ट 
९३२२४११३३५

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !




user profile image
06-02-2018 2:46:56

संघर्ष को सलाम। धन्यवाद अधिवक्ता महोदय को कि गरीब को उसका हक दिलाया। जय जनमत जय जनतंत्र। जय संविधान।