* *** आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media2016@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *** *

पत्रकारिता का घिनौना रूप

19-06-2019 15:45:44 पब्लिश - एडमिन


चौतरफा आलोचना के बाद "आजतक" की पत्तलकार "अंजना" मैडम का पत्रकार धर्म जग गया है , और वह कैमरा और माइक लेकर "मुजफ्फरपुर" अस्पताल के आईसीयू में घुस गयी हैं और वहाँ सीमित संसाधनों के माध्यम से बच्चों का इलाज कर रहे डाक्टर्स और नर्सों को परेशान कर रही हैं और अपने पत्रकार , कैमरा और माइक के दंभ को दिखाकर उनको डरा रही हैं।

मुजफ्फरपुर में आई आपदा वहाँ के अस्पताल के डाक्टर्स और नर्सों के कारण नहीं है , यह चापलूसी में अंधी पत्रकारिता कभी नहीं समझेगी , यह सरकार और शासन की घोर लापरवाही और प्रशासन द्वारा अस्पताल की व्यवस्था को जर्जर बना देने के कारण है।

परन्तु अंजना मैडम का माइक सत्ताधारी नेताओं , मंत्रियों के मुँह में नहीं ठूसा जाएगा , वर्ना उनके दो भव्य विदेशी कारों के "शोरूम" की जाँच हो जाएगी और इनकम टैक्स की फाइल खुल जाएगी |

दरअसल , अभी तक सरकार की चापलूसी में लगी और मोदी के जीतने का जश्न मना रही मीडिया "टीवी9 भारतवर्ष" और उसके संपादक अजित अंजुम की मुजफ्फरपुर में मरते बच्चों पर रिपोर्टिंग से खुद को "टीआरपी" में पिछड़ते देख अंजना मैडम मुजफ्फरपुर के आईसीयू में पहुँच गयीं और वहाँ कुछ और बड़ा करने के उद्देश्य से बच्चों का इलाज कर रहे डाक्टर्स और नर्सों से भिड़ गयीं और इलाज में बाधा पहुचाई।

यह पत्रकारिता के स्तर के और गिर जाने का प्रमाण है कि आईसीयू और आपरेशन थिएटर में कैमरा और माइक लेकर प्रथानमंत्री वरदहस्त अंजना ओम कश्यप घुस जाएँगीं। और उनको यह अधिकार मिला हुआ है।

सवाल यह है कि मुजफ्फरपुर के अस्पताल की व्यवस्था करने की ज़िम्मादारी ड्यूटी में कार्यरत डाक्टर्स और नर्सों की है या देश और प्रदेश के स्वास्थमंत्री की ? डाक्टर्स और नर्स तो सीमित संसाधनों के साथ जो भी बन पड़ रहा है कर रही हैं तो आन कैमरा मीडिया पर उनको खलनायक बनाकर दिखाने का कारण क्या है ?

यह एक साजिश है जो "अंजना ओम कश्यप" सत्ता के इशारे पर खेल रही हैं , और वह साजिश यह है कि मुजफ्फरपुर में 150 से अधिक बच्चों की मौत को अस्पताल , ड्युटी में कार्यरत डाक्टर्स और नर्सों की अक्षमता दिखाकर सरकार को बचाना और उसके माथे पर लगे 150 कलंक को धोना।

आईसीयू के एक बेड पर 5-5 बच्चे यदि हैं तो यह डाक्टर्स और नर्स के कारण नहीं है , वहाँ अधिक बेड और व्यवस्था ना होने के कारण है , तो कौन उनसे सवाल पूछेगा कि इस अस्पताल में बेड और दवाईयाँ क्युँ नहीं हैं ? डाक्टर और नर्स बेड और दवाईयाँ अस्पताल में लाएँगे ?

माफ कीजिए हर जगह "डाक्टर कफील" नहीं मिलेंगे।

पत्रकारिता का यह रूप बेहद दुखद है कि एक पत्रकार और उसके चैनल की पत्रकारिता को पीछे करने के लिए "आजतक" जैसा संस्थान और उसकी पत्रकार इतने घटिया स्तर पर उतर आया है।

क्या "आजतक" और अंजना ओम कश्यप देश के प्रधानमंत्री और स्वास्थमंत्री के मुँह में माइक डालकर यह पूछेंगी कि जब "आयुष्मान भारत योजना" में प्रति परिवार ₹5 लाख के मुफ्त इलाज की गारंटी सरकार दे रही है तो इस अव्यवस्थित सुविधावीहीन अस्पताल में एक बेड पर 5-5 बच्चों का इलाज क्युँ चल रहा है ?

पूछेंगी अंजना मैडम ?

माफ करिए , आपकी फाइल खुल जाएगी , और दोनों भव्य कार शो रूम में ताले लग जाएँगे।

सुरजीत यादव अमेठी  मो 9005909448


आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें 

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !




user profile image
20-06-2019 9:29:22

अंजना ने पत्रकारिता के स्तर को गिरा दिया है ये लोग सरकार से सवाल पूछने के बजाय जनता से ही उल्टे सीधे सवाल पूछ कर मुद्दे को डायर्वट कर देती है धंन्य है ऐसी पत्रकारिता

user profile image
20-06-2019 9:29:22

अंजना ने पत्रकारिता के स्तर को गिरा दिया है ये लोग सरकार से सवाल पूछने के बजाय जनता से ही उल्टे सीधे सवाल पूछ कर मुद्दे को डायर्वट कर देती है धंन्य है ऐसी पत्रकारिता

user profile image
Nizamuddinkhan made a post.
20-06-2019 11:01:31

दलाली किये है तो कैसे सुधर है

user profile image
20-06-2019 11:05:49

निष्पक्ष शाब्दिक वर्णन के साथ प्रहार किया है आपने बन्धु। अगर अस्पताल प्रबंधन इलाज के लिए जरूरी उपकरणों कि मांग सरकार से करता है, तब अगर सरकार उसे उपलब्ध ना करा पाए, तो सरकार शत प्रतिशत दोषी है। अभी cm ने अस्पताल में दौरा किया था तो वहां आनन फानन में नए कूलर भी उपलब्ध करा दिए! अगर साथ ही कुछ और बेड का इंतेजाम और इलाज के लिए आवश्यक उपकरणों के साथ चिकित्सकों का भी इंतेजाम इन्हीं कूलरों के साथ कर दिया जाता, तो शायद cm का दौरा सही मायनों में कारगर साबित होता।

user profile image
20-06-2019 15:29:37

अंजना मैडम की पत्रकारिता का कार्य घिनौना नहीं है लेकिन उन्हें यह बात जनता से नहीं बल्कि सरकार से पूछना चाहिए कि आखिर इतनी सरकारी सुविधाएं होने के बावजूद भी सरकारीअस्पतालों में इतनी अव्यवस्था क्यों फैली हुई है , यह बातें प्रधानमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री से पूछनी चाहिए। क्या भाजपा सरकार में भी रिश्वतखोरी एवं घूसखोरी तथा भ्रष्टाचार समाप्त हो पाएगा? आखिर कब?