* *** आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media2016@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *** *

हितों की बात करने वाले न्यायमूर्ति गोगाई की साफगोई

15-01-2018 19:15:32 पब्लिश - एडमिन



सर्वोच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश के खिलाफ संयुक्त पत्रकार वार्ता करने वाले सर्वोच्च न्यायालय के चार मुख्य न्यायाधीशों में शामिल न्यायमूर्ति तरूण गोगाई के बारे में पत्रकारों के हितों की लडाई लड़ने वाली टीम का अभिन्न अंग शशिकांत सिंह के अनुसार मजीठिया वेज बोर्ड केस की सुनवाई के दौरान चार बार उन्हें भी कोर्ट जाने का अवसर मिला। शशिकांत सिंह ने कहा कि न्यायमूर्ति तरूण गोगोई मजीठिया वेज बोर्ड केस मामले की सुनवाई के दौरान अखबार मालिकोें के खिलाफ जितने सख्त नजर आ रहे थे उससे लग रहा था कि अखबार मालिक उनसे परेशान है। बकौल पत्रकार सिंह कि न्यायमूर्ति श्री गोगोई ने अखबार मालिकों के धुरंधर अधिवक्ताओं को कई बार तल्ख लहजे में कहा है कि उनके क्लाइंटस को मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिशें लागू करनी ही होगी। 

अखबार मालिकों के वकीलों में कांग्रेस नेता वरिष्ठ अधिवक्ता सलमान खुर्शीद सहित अनेक महंगे अधिवक्ता शामिल हैं। पत्रकारों के हितों की इस जंग में सरकार और विपक्ष के नेता एकजुट होकर अखबार मालिकों के साथ खड़े हैं। शशिकांत सिंह ने कहा कि न्यायमूर्ति श्री गोगोई के सामने उन्होंने अपनी आंखों से समाचार पत्र स्वामियों और श्रम आयुक्तों को अनुनय विनय करते हुए देखा है। शशिकांत खेद व्यक्त करते हुए कहते हैं कि अफसोस की बात तो यह है कि पत्रकार यह जंग जीत चुके हैं लेकिन केन्द्र की मोदी सरकार मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिशें लागू नहीं करा पाई है। इस मामले में संभवतः इसलिये हीला हवाली की जा रही है कि कहीं अखबार मालिक नाराज न हो जाये।

शशिकांत सिंह बेबाकी से लिखते हैं कि सुप्रीम कोर्ट के चर वरिष्ठ न्यायाधीशों का एक साथ सामने आकर संयुक्त प्रेस कान्फ्रेस करना एक ऐतिहासिक घटनाक्रम है। उन्होेंने कहा कि मुख्य न्यायाधीश ने वरिष्ठ न्यायाधीशों के विरोध के बावजूद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस की मृत्यु का केस उनके बहुत ही जूनियर बेंच को सौंपा है। अब यह समझने के लिए क्यों किसी विशेषज्ञ की जरूरत नहीं है। शशिकांत सिंह के अनुसार चार मुख्य न्यायाधीश गणतंत्र को बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं, भले ही इसका अन्जाम कुछ भी हो लेकिन उक्त चारों मुख्य न्यायाधीश गणतंत्र बचाने के लिए लड़ रहे लोगों और संस्थाओं के लिए प्रेरणास्त्रोत होंगे।

(वरिष्ठ पत्रकार शशिकांत सिंह की रिपोर्ट)  

आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें 

 

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !