* आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *

‘‘हिन्दुस्तान’’ पर 32 लाख बकाया का केस ठोका संतोष ने 

05-02-2018 17:43:32 पब्लिश - एडमिन



बरेली। दैनिक हिन्दुस्तान की स्थानीय यूनिट की दिनों दिन बिगड़ती हालत और मजीठिया वेज बोर्ड के बढ़ते मामलों की गाज यूनिट हेड योगेन्द्र सिंह पर गिर गयी है। योगेन्द्र सिंह के साथ साथ बरेली यूनिट के विज्ञापन मैनेजर अतुल मिश्रा को भी हटा दिया गया है। योगेन्द्र सिंह को बरेली से हटाकर देहरादून भेज दिया गया है। उनका गगन तनेजा लेंगे जो नोएडा में तैनात है। तीन साल पूर्व मजीठिया वेज बोर्ड को लेकर जब बरेली यूनिट में श्रम विभाग का छापा पड़ा था तब योगेन्द्र सिंह ही यूनिट हेड थे। बरेली यूनिट के वरिष्ठ उप सम्पादक मनोज शर्मा, निर्मल कान्त शुक्ला, राजेश्वर विश्वकर्मा, चीफ रिपोर्टर पंकज मिश्रा, डिजाइनर राजेश सक्सेना, यूनिट के वरिष्ठ आईटी प्रबन्धक हरिओम गुप्ता और विज्ञापन विभाग के अशोक गंगवार ने भी श्रम विभाग में हिन्दुस्तान के खिलाफ बरेली उप श्रमायुक्त के समक्ष मजीठिया वेज बोर्ड के अनुसार लाखों के बकाया का मुकदमा ठोक दिया। दैनिक हिन्दुस्तान के खिलाफ तीन आरसी कट चुकी है।
बताया जाता है कि हिन्दुस्तान का बरेली में प्रसार निरन्तर गिरता जा रहा है और विज्ञापन आय भी कम हो गयी है। प्रबन्धन ने इसके लिए योगेन्द्र सिंह को जिम्मेदार मानते हुए बरेली से हटाकर देहरादून भेजा है। जबकि विज्ञापन मैनेजर अतुल मिश्रा को अलीगढ़ का कार्यभार सौंपा गया है। इस बीच मुरादाबाद में भी हिन्दुस्तान में विद्रोह की खबर आ रही है। वार्षिक वेतन बढ़ोतरी न होने से भड़के वरिष्ठ पत्रकार संतोष सिंह ने सम्पादक पर आरोपों की झड़ी लगाते हुए इस्तीफा दे दिया है। संतोष सिंह भाजपा के मुरादाबाद-बरेली स्नातक सीट से निर्वाचित विधान परिषद सदस्य प्रोफेसर जयपाल सिंह के पुत्र हैं। संतोष वर्ष 2009 से हिन्दुस्तान से जुडे थे। संतोष ने बरेली में भी काम किया। बाद में उन्हें मुरादाबाद भेज दिया गया था। वह रामपुर में भी ब्यूरो चीफ रहे।
संतोष सिंह वर्तमान में मुरादाबाद यूनिट में जनरल डेस्क पर नियुक्त थे। संतोष ने वार्षिक वेतन वृद्धि न होने को लेकर संस्थान के वरिष्ठ अधिकारियों को मेल भेजकर वजह जानने की जुर्रत की। बताया गया कि संपादक सूर्यकांत द्विवेदी ने उनके कार्य की खराब रिपोर्ट दी थी। इस पर संतोष नाराज हो गये और उन्होंने मेल में लिखा कि अगर सूर्यकान्त द्विवेदी की रिपोर्ट दुरुस्त है तो उनसे पहले केके उपाध्याय और आशीष व्यास ने उन्हें जो अच्छे कार्यो की रिपोर्ट दी तो वह दोनो रिपोर्ट गलत होगी और अगर वे दोनों रिपोर्ट सही है तो द्विवेदी की रिपोर्ट गलत होगी। संतोष के तर्कों के बाद भी प्रबन्धन ने कोई कदम नहीं उठाया जिससे नाराज हुए संतोष ने हिन्दुस्तान से किनारा करना बेहतर समझा। अखबार से इस्तीफा देने वाले संतोष ने प्रबन्धकों को सबक सिखाने के लिए मजीठिया वेज बोर्ड के अनुरूप् वेतन-भत्तो और एरियर का कुल 32 लाख रूपया बकाया बताते हुए उपश्रमायुक्त मुरादाबाद के आफिस में केस दायर कर दिया। बताया जाता है कि बतौर सम्पादक मेरठ यूनिट में रहे द्विवेदी तब भी विवादों में रहे थे। कई कर्मचारियों ने द्विवेदी पर पक्षपातपूर्ण तरीके से रेटिंग कर वेतन बढ़ोतरी रोक दी थी। एक कर्मचारी ने आत्महत्या का प्रयास भी किया था। यह मामला काफी सुर्खियों में रहा। सूर्यकांत द्विवेदी को समूह सम्पादक शशिशेखर का अहम सिपाहसालार माना जाता है। 

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !