* *** आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media2016@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *** *

जान की धमकी मिली फिर भी अपनी ड्यूटी पर डटी रही महिला पत्रकार

10-01-2019 16:16:13 पब्लिश - एडमिन



2 जनवरी को मुझसे कहा गया था कि मैं बीजेपी के नेताओं से बिंदू अम्मीनी और कनकदुर्गा के सबरीमाला में घुसने वाले मुद्दे पर रिऐक्शन लेकर आऊं. मैं सेक्रेटेरिएट के सामने कई हफ्तों से भूख हड़ताल पर बैठे बीजेपी नेताओं से बात करने लगी. बात करने के बाद मैं ऑफिस जाने के लिए निकली. उसी वक्त लोगों का एक समूह सेक्रेटरिएट की ओर मार्च करता हुआ निकला. उन्होंने लेफ्ट पॉलिटिकल पार्टियों के लगाए होर्डिंग और बैनर फाड़ दिए और पत्रकारों पर हमला शुरू कर दिया. जब मैंने इस हमले को शूट करना शुरू किया, तो भीड़ ने मुझे धमकी दी. भीड़ ने मुझे जान से मारने की धमकी दी. मैंने धमकी को अनसुना कर दिया, लेकिन मुझे झटका तब लगा, जब मेरी पीठ पर एक लात पड़ी. मेरे प्रोफेशनल करियर का ये सबसे बुरा वक्त था. जब मेरा कैमरा स्विच ऑफ हो गया तो मुझसे वो तस्वीरें और वीडियो छूट गए, जिस दौरान भीड़ ने मेरे ऊपर हमला किया था. दो घंटे बाद ये सब खत्म हुआ तो मैं चाहती थी कि डॉक्टर के दिखाने से पहले मैं सभी फोटो और वीडियो ऑफिस में जमा कर दूं. मेरे लिए ड्यूटी पहले थी. मैं खुश हूं कि ऐसी स्थिति में भी मैं अपना काम कर रही हूं.' शाजिला सीपीएम के न्यूज़ चैनल कैराली टीवी में काम करती हैं. सात साल तक कैराली टीवी में डेस्क पर काम करने के बाद 2013 में शाजिला कैमरापर्सन बनी थीं. इसके बाद उन्होंने कई विधानसभा चुनाव कवर किए, केरल की बाढ़ कवर की और कई राजनैतिक हिंसाओं में रिपोर्टिंग की. लेकिन शाजिला कहती हैं कि वो 2 जनवरी, 2018 को हुई घटना को कभी भूल नहीं पाएंगी. उनका कहना है कि नेताओं को मीडिया की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए. पत्रकारों का काम ही परिस्थितियों की यथास्थिति जानकारी लोगों तक पहुंचाना होता है. कहीं पर कुछ भी हो पत्रकार अपने काम के प्रति संजीदगी दिखाता नज़र आता है फिर भी उसे बार-बार टारगेट किया जाता है. झारखंड में हुए नक्सली हमले के दौरान भी दूरदर्शन के कैमरापर्सन की मौत हो गई थी. उन्होंने भी हिम्मत दिखाते हुए आखिरी समय तक अपना काम पूरी ईमानदारी के साथ किया था. अपनी मां के लिए रिकॉर्ड किया उनका वीडियो तब वायरल हुआ था. कैमरापर्सन शाजिला की फोटो भी आज वायरल हो रही है. उन्होंने भी हार नहीं मानी और खुद पर हमला होने के बाद भी अपना काम करती रहीं |

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !