* आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *

पकड़े गये फोटो जर्नलिस्ट कामरान को पत्रकार मानने से एनआईए का इन्कार

16-02-2018 20:07:10 पब्लिश - एडमिन



नई दिल्ली। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पिछले साल सितम्बर में जम्मू कश्मीर से गिरफ्तार फोटो जर्नलिस्ट कामरान युसुफ को पत्रकार मानने से इन्कार करते हुए सुनवाई के दौरान अदालत को बताया कि कामरान सरकारी कार्यक्रमों से सदैव दूर रहता था लेकिन पत्थरबाजी और आतंकियों से मुठभेड या एनकाउंटर स्थल पर पहुंच जाता था, मानों उसे पूर्व जानकारी हो। एनआईए ने अपने शपथ पत्र में कोर्ट का बताया कि कामरान सरकारी विभागों के विकास कार्यो, स्कूल और अस्पताल के उदघाटन या सत्तारूढ़ राजनीतिक दल के किसी कार्यक्रम का कवरेज नहीं करता था जो कि एक पत्रकार की नैतिक जिम्मेदारी होती है।
कश्मीर में हो रही पत्थरबाजी की घटनाओं को लेकर एनआईए ने 20 वर्षीय फोटो जर्नलिस्ट कामरान युसुफ को सितम्बर माह 2017 में पत्थरबाजों के साथ मिलकर काम करने के आरोप में पकड़ा गया था। एनआईए ने कामरान की गिरफ्तारी को जायज ठहराते हुए कहा कि कामरान वास्तविक पत्रकार नहीं है बल्कि वह आतंकवादी गतिविधियों से जुडी गतिविधियों और पत्थरबाजी की घटनाओं की फुुटेज लेकर स्थानीय मीडिया को बेचता है। एनआईए ने कोर्ट में घाटी में जारी पत्थरबाजी और आतंकवादी गतिविधियों के सन्दर्भ में एक दर्जन लोगों को आरोपी बनाया है उनमें कामरान भी शामिल हैं। युसुफ की जमानत को लेकर हुई सुनवाई के दौरान एनआईए ने युसुफ के खिलाफ उपलब्ध दस्तावेजों को पुनः कोर्ट में पेश किया। अब इस मामले की 19 फरवरी को सुनवाई होगी।
एनआईए ने अपने आरोप पत्र में वास्तविक पत्रकार की परिभाषा को रेखांकित करते हुए बताया कि एक पत्रकार की नैतिक जिम्मेदारी होती है कि वह हो रही घटनाओं और अच्छी बुरी गतिविधियों को कवरेज दे लेकिन कामरान की ऐसे समाचारों में रूचि नहीं थी। कामरान ने कभी स्कूल-अस्पताल, सड़क और पुल, इमारत और अन्य उदघाटन समारोहों और केन्द्र व राज्य सरकार की सामाजिक और विकास सम्बन्धी गतिविधि को कवर नहीं किया। एनआईए के मुताबिक घाटी में सेना लोगों के बीच रक्तदान शिविर, निशुल्क चिकित्सा परीक्षण, कौशल विकास कार्यक्रम और रोजा अफ्तार आदि कार्यक्रम आयोजित करती रहती है लेकिन कामरान युसुफ ने ऐसे किसी कार्यक्रम को तवज्जो नहीं दी। उसके लैपटाप और कैमरे अथवा मोबाइल में सेना और सरकार की किसी सामाजिक गतिविधि से सम्बन्घित सामग्री, वीडियो और फोटो नहीं है। कामरान के इस रवैये को संदेहास्पद मानते हुए एनआईए ने कहा कि इससे साफ जाहिर है कि कामरान सिर्फ राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के फुटेज बेचकर पैसा कमाना चाहता है। एनआईए के अनुसार कामरान ने किसी संस्थान से प्रशिक्षण तक प्राप्त नहीं किया है। 
सुनवाई के दौरान कामरान युसुफ की अधिवक्ता वरीसा फरासत ने एनआईए की दलीलों के जवाब में कोर्ट से कहा कि उसके मुवक्किल कामरान ने वास्तविक पत्रकार के वह सभी मानदंड पूरे किये है जो एनआईए ने सूचीबद्ध किये हैं। वरीसा ने कहा कि उनके पास कामरान को वास्तविक पत्रकार साबित करने के लिए कई फोटो है जिनसे कामरान पत्रकारिता की परिभाषा पर खरा उतरता है। हालांकि वरीसा ने कहा कि कामरान के खिलाफ दायर आरोप पत्र में उसके अन्य पत्रकारों के सम्पर्क में होने का दावा किया गया है किन्तु अन्य आरोपियों के साथ साजिश में सम्मिलित होना नजर नहीं आता। एनआईए के आरोप पत्र में लश्कर चीफ हाफिज सईद और हिजबुल मुजाहिदीन प्रमुख सैयद सलाहुददीन का नाम शीर्ष आरोपियों में शामिल है। इस सूची में कामरान को भी पत्थरबाजों में दर्शाया गया है जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया। उधर एनआईए के पीआरओ ने न्यूज एजेंसी से बातचीत के दौरान बताया कि टेरर फंडिग के मामले में कामरान का नाम आया था। एनआईए को बाद में मालूम हुआ कि वह फोटो जर्नलिस्ट के रूप में काम करता है।
एक अन्य प्रतिष्ठित अंग्रेजी दैनिक ने लिखा कि कामरान का एनकाउंटर की जगह और अलगाववादियों के प्रदर्शन स्थल पर मौजूद रहना ही उसके खिलाफ संदेह पैदा करता है। एनआईए उससे यही जानना चाहती है कि वह घटनास्थल पर क्यों उपलब्ध रहता है, क्या उसे प्रदर्शनकारी पहले से ही सूचित कर देते हैं! व्ह प्रदर्शन सम्बन्धी खबरों को दिखाने में गम्भीरता क्यों दिखाता है। बचाव पक्ष की वकील वरीसा ने दलील देते हुए कहा कि कामरान का पथराव स्थल पर मौजूद होना महज इसलिए है कि वह इन घटनाओं को कवर कर रहा था।

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !