हरिद्वार में फ़र्ज़ी पत्रकारों का आतंक,पच्चीस हज़ार के साथ पुलिस ने धरे ,दो फरार

02-01-2018 21:45:12 पब्लिश - एडमिन


​​हरिद्वार समाचार​​
​तथाकथित तीन पत्रकारों को खनन करने पहुंचे ट्रेक्टर-ट्राॅली चालक से पच्चीस हजार मांगने उस वक्त महंगे पड़ गये। जब चालक ने मामले की जानकारी ट्रेेेक्टर स्वामी को दे दी। जिसने साथियों के साथ मौके पर पहुंचकर वसूली करने पहुंचे तीन को दबोच लिया, जबकि दो फरार होने में कामयाब रहे। जिनको पुलिस के हवाले कर दिया।​ ​जिनके खिलाफ ट्रेेेक्टर स्वामी ने बहादराबाद थाने में तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच में जुट गयी है। बताया जा रहा हैं कि आरोपियों ने दो दिन पूर्व भी एक ट्रेेेक्टर ट्राॅली वाले से दो हजार वसूले थे। प्राप्त जानकारी के अनुसार बहादराबाद थाना क्षेत्र स्थित शनिदेव मन्दिर के समीप सूखी नहर में एक ट्रेेेक्टर टाॅली पहुंची। बताया जा रहा हैं कि इसी दौरान पांच युवक युवकों ने ट्रेेेक्टर टाॅली को रोक लिया और अपना परिचय पत्रकार के रूप में देते हुए अवैध खनन करने की बात कहते हुए पच्चीस हजार की डिमांड कर डाली। वरना पुलिस के हवाले करने की धमकी दी। जिसकी जानकारी चालक ने ट्रेेेक्टर टाॅली स्वामी ईनाम को दी।


जिसपर ईनाम पुत्र हसन अली निवासी भौरा डेरा बहादराबाद हरिद्वार अपने साथ कुछ लोगों को लेकर मौके पर पहुंचा। जिसने युवकों से मामले की जानकारी ली। आरोप हैं कि पांचों युवकों ने अपने को पत्रकार बताते हुए धमकाया कि यहां से अवैध खनन किया जा रहा है। इसलिए उनको पच्चीस हजार देने होगे, वरना पुलिस को बुलाकर लेगें। बताया जा रहा हैं कि ट्रेेेक्टर स्वामी ईनाम ने पांचों युवकों को बातों में उलझा कर अपने कुछ बहादराबाद के परिचित पत्रकारों को मौके पर बुला लिया। जिनके वहां पर पहुंचते हुए पत्रकार बने युवकों के होश उड़ गये। जिनमें एक दो युवकों ने मामले की गम्भीरता को देखते हुए फरार हो गये। लेकिन वहां मौजूद लोगों व पत्रकारों ने तीनों युवकों को दबोच लिया और पुलिस के हवाले कर दिया। बताया जा रहा हैं कि तीनों युवकों ने अपने को पत्रकार बताते हुए पुलिस को दिल्ली के एक अखबार के आईकार्ड भी दिखाये। लेकिन पुलिस इस बात को लेकर उलझ गयी कि वास्तव में लाये गये पत्रकार असली हैं या फिर फर्जी। बताया जा रहा हैं कि पुलिस ने बहादराबाद, रूड़की सहित हरिद्वार के पत्रकारों से सम्पर्क कर उनकी जानकारी लेने का प्रयास किया। लेकिन कही से भी दबोचे गये युवकों के पत्रकार होने के प्रमाण नहीं मिल सकें और ना ही दिखाये गये अखबार की आईकार्ड के सम्बंध् में जानकारी नहीं हो सकी। दबोचे गये कथित पत्रकारों ने पूछताछ के दौरान अपना नाम गुलबहार पुत्र खलिल निवासी तेलीवाला गंगनहर रूड़की हरिद्वार, गुलफाम पुत्र इरफान निवासी रोशनाबाद सिड़कुल हरिद्वार और मोहसीन पुत्र खलिल अहमद निवासी उपरोक्त बताते हुए फरार होने वाले साथियों के नाम आशीश और शौकीन निवासी गढ़मीरपुर हरिद्वार बताये है। तीनों के खिलाफ ट्रेेेक्टर स्वामी ईनाम पुत्र हसन अली ने थाने में तहरीर दी है। पुलिस ने समाचार लिखे जाने तक मामला दर्ज नहीं किया था। बहादराबाद थाना एसओ मनोहर सिंह के अनुसार खनन को गये ट्रेेेक्टर टाॅली चालक से पत्रकार बने पांच युवकों ने अवैध खनन करने को कहते हुए उससे पच्चीस हजार की डिमांड की गयी।

जिसकी जानकारी चालक ने ट्रेेेक्टर स्वामी ईनाम को दी। जिसने अपने लोगों के साथ मौके पर पहुंचकर तीन युवकों को दबोच कर पुलिस के हवाले कर दिया। जबकि दो फरार हो गये। पकड़े गये युवक अपने को पत्रकार बता रहे हैं जिनके पास से दिल्ली के एक अखबार के आईकार्ड मिले है। पकड़े गये युवक वास्तव में पत्रकार हैं या नहीं इसके लिए हरिद्वार, रूड़की और बहादराबाद के पत्रकारों से जानकारी ली गयी।


मगर किसी ने भी इन युवकों के पत्रकार होने की जानकारी नहीं दी है। उन्होंने बताया कि पता चला कि दो दिन पूर्व भी इन्होंने एक ओर खनन वाले से दो हजार रूपये पत्रकार की धैाास देकर वसूले थे। ​वही सिडकुल की एक दूसरी कंपनी में जाकर इन लोगो ने एक अवैध कार्य को अंजाम देने का विफल प्रयास भी किया। क्षेत्र में पिछले कुछ दिनों से अपराधी प्रवर्ति के इन लोगो ने कोहराम मचाया हुआ था। जिस कारण लोगो मे हाहाकार मचा हुआ था। यही नही पत्रकारिता के नाम के साथ इन लोगो ने जो खिलवाड़ किया उस से पत्रकारिता जगत के सभी पत्रकारों में क्रोध बना हुआ है ।फिलहाल मामले की तह तक पहुंचने का प्रयास किया जा रहा है।​

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !