* *** आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media2016@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *** *

त्रिवेन्द्र सरकार का दोहरा चरित्र

15-07-2019 16:57:08 पब्लिश - एडमिन


 

बीजेपी सरकार का एक अपना इतिहास है मगर उस इतिहास की छवि धूमिल हो चुकी है| देश के बनाये कानूनों की धज्जियां बेखौफ होकर उड़ाई जा रही है और सत्ता का बेझिझक होकर इस्तेमाल किया जा रहा है | उत्तराखंड जो की अनेक विविभताओं ,ऋषि मुनियों और माँ गंगा का प्रतीक है उसी राज्य को सरकार के विधायक माँ की गाली देकर सरेआम बदनाम कर रहे हैं| त्रिवेंद्र सिंह सरकार के बेबाकी से बोलने वाले विधायक प्रणव सिंह चैंपियन ने अपनी मर्यादा को लांघते हुए उत्तराखंड को माँ की गाली देकर ये दर्शाया है की बाहुबल और सत्ता के आगे किसी की कोई अहमियत नहीं है इसिलए तोह अबतक इस अभद्र टिप्पणी पर कोई एफआईआर दर्ज़ नहीं हुई कोई कार्यवाही का आश्वासन नहीं दिया गया | यह सब कानून का मखौल उड़ाना ही तोह है क्यूंकि जब एक आंदोलनकारी दलवीर सिंह के बेटे राजपाल को मुख्यमंत्री की महज़ आलोचना करने के कारण जेल भेज दिया गया और जो विधायक राज्य को गाली दे रहे हैं वो निडरता से अपने सर्वस्व का परचम लहरा रहे हैं | जनता अपने प्रतिनिधि का चुनाव किस विश्वास पर करे? जो विधायक अपने राज्य को ही अपने अभद्र शब्दों की बोली से क्षति पंहुचा रहा हो वो जनता को किसी हानि से कैसे बचाएगा? मौजूदा त्रिवेंद्र सरकार में जो भी कोई सरकार के काम या मुख्यमंत्री की आलोचना करता है उसे जेल की चार दीवारें नसीब होती हैं, इसी पक्षपात के चलते बाहुबली विधायक बेधड़क होकर संविधान के नियमों का मज़्ज़ाक़ बना रहे हैं | नाइंसाफी का आलम यह है की आंदोलनकारी की आलोचना से प्रशासन इतना घबरा गया की उसे पुलिस द्वारा घर से गिरफ्तार करवाया गया और धारा 153 में मुकदमा दर्ज़ कर जेल की हवा खिलवाई गयी |राज्य को गाली देने वाले जनता के प्रतिनिधि क्यों अभी तक कार्यवाही से दूर हैं? सरकार क्या सोच रही है? इन्ही सब सवालों के आगे उत्तराखंड राज्य का भविष्य अधर में लटक गया है | यह अधिनायकत्व का सरकार द्वारा पेश किया गया एक नमूना ही तो है जो सत्ता के बल पर राज करनेवालों की तस्वीर साफ़ ज़ाहिर करता है | सरकार के इस अनदेखी वाले रवैये के आगे जनता जनार्दन लाचार और बेबस नज़र आरही है किसी को भी उम्मीद की किरण की हलकी भर झलक देखने को नहीं मिल रही है | जिस राज्य को उन्नति की ओर अग्रसर होना चाहिए वह सत्तापक्ष जैसी आधारशीला का  निर्माणग्रह बनता जा रहा है | 

 

आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media2016@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें

 

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !