aakrosh4media तक अपनी खबरे व् शिकायत पहुंचाने के लिए aakrosh4media2016@gmail.com पर मेल करें आप आक्रोश के सम्पादक संजय कश्यप को अपनी खबरे व् शिकायत WhatsApp भी कर सकते है WhatsApp NO है 9897606998, 9411111862, 7417560778

शिकायत सुझाव

हरिद्वार के वरिष्ठ पत्रकार ने गिड़गिड़ाकर पकड़े महिला के पैर, मांगी माफी

तथाकथित वरिष्ठ पत्रकार ने गिड़गिड़ाकर पकड़े महिला के पैर, मांगी माफी। तथाकथित पत्रकार ने मीडिया में महिला के चरित्र हनन का किया था प्रयास। महिला ने खेद प्रकट करने के लिये दिया तथाकथित पत्रकार को 2 दिन का अल्टीमेटम।
हरिद्वार। पंचपुरी में आजकल अपने को वरिष्ठ पत्रकार कहने वाला विक्रम बैताल व्यक्ति चर्चा में बना हुआ है। तथ्यहीन व आधारहीन समाचार प्रकाशित कर वर्षों से लोगों को ब्लैकमेल करने वाला ये विक्रम बैताल वरिष्ठ पत्रकार इस बार एक महिला के चरित्र हनन को लेकर सुर्खियों में बना हुआ है। विश्वसनीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अपने ब्लैकमेलिंग के तरीके को अपनाते हुए उक्त पत्रकार ने किसी व्यक्ति विशेष को बदनाम व ब्लैकमेल करने के लिये सोशल मीडिया पर एक पत्र जारी कर दिया और अनाप सनाप लिख दिया। इस से पूर्व में भी उसने अपने अमाचार पत्र में व्यक्ति विशेष के चरित्र हनन का प्रयास किया था।मगर इस बार उसने उस व्यक्ति विशेष का महिला के साथ नाम जोड़ते हुए एक पत्र सोशल मीडिया पर जारी कर दिया। उक्त पत्र को जब उस संबंधित महिला ने सोशल मीडिया पर देखा तो उसके होश उड़ गए तब उसने उस पत्र को जारी करने वाले कि जानकारी प्राप्त की।जानकारी मिलते ही उक्त महिला ने उस विक्रम बैताल पत्रकार को फोन किया। मगर तथाकथित पत्रकार ने एक बार फोन को रिसीव कर फोन को बंद कर दिया। उक्त महिला ने इस तथाकथित पत्रकार को कई बार फोन किया मगर उसने पहले तो फ़ोन नहीं उठाया और बाद में फोन को बंद कर दिया। विश्वस्त सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार महिला अपने पति के साथ 13 सितम्बर की सुबह पूछते पूछते उस तथाकथित पत्रकार के घर पहुंच गई।अपने घर के बाहर उक्त महिला व उसके पति को देखकर उसके होश उड़ गए।महिला और उसके पति ने पहले तो उसे घर के बाहर ही खूब खरी खोटी सुनाई और खूब लताड़ा।मोहल्ले में अपनी सरेआम होती बेइज्जती देख उसने महिला के आगे हाथ जोड़े और उसे घर के अंदर आने के लिये कहा।महिला ने अपनी सज्जनता का परिचय देते हुए उसके घर मे चली गयी।घर मे उक्त तथाकथित पत्रकार ने पहले तो महिला से हाथ जोड़कर माफी मांफी जब महिला उक्त माफी पर संतुष्ट नहीं हुई तो उक्त विक्रम बैताल पत्रकार महिला के पैरों में पड़कर गिड़गिड़ाने लगा और महिला का आस्वस्त किया कि वह दो दिन के भीतर उक्त पत्र व खबर का खंडन छापेगा।इस पर महिला ने उसे 2 दिन का समय दिया कि दो दिन में इसका खंडन नहीं किया तो वह थाने में उस की रिपोर्ट लिखवाएगी।
चर्चा है कि उक्त पत्रकार पर इस से पूर्व भी ब्लैकमेलिंग के कई आरोप लग चुके है इतना ही नही इसने कनखल के ही एक वरिष्ठ पत्रकार को ब्लैकमेल करते हुए 5000 रुपए भी लिए थे और एक कनिष्ठ पत्र कर को भी ब्लैकमेल करते हुए हज़ारो रुपये ले चुका है।लेकिन इस बार अपने उक्त तथाकथित पत्रकार अपने ही बने जाल में फंस गया और एक महिला के हत्थे चढ़ गया। आपको बता दे की ये विक्रम बैताल पत्रकार हरिद्वार प्रेस क्लब का भी सदस्य / मेम्बर है अब देखना ये होगा की अपनी साफ़ सुथरी छवि रखने वाला हरिद्वार प्रेस क्लब इस ब्लेकमेलर जेसे विक्रम बैताल पत्रकार को अपने यहाँ जगह देता है या बाहर का रास्ता दिखाता है 
(हरिद्वार प्रेस क्लब के एक मीडिया कर्मी के द्वारा आक्रोश को भेजी गई खबर के आधार पर)
आक्रोश4मीडिया इंडिया का no1 मिडिया पोर्टल है सिर्फ पत्रकार बन्धुओ के सहयोग से ही चल रहा है aakrosh4media.com हम व् हमारी आक्रोश की पूरी टीम आपकी राय और सुझावों की कद्र करती हैं। अतः आप अपनी राय, शिकायत , सुझाव और ख़बरें हमेंThis email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.  पर भेज सकते हैं या 9358606998 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। आक्रोश की आईडी है https://www.facebook.com/Aakrosh4media-608693262635672/ या आप ट्वीटर आईडी @aakrosh4media24 पर भी फॉलो कर सकते है 

मजीठिया वेजबोर्ड के लिए राष्ट्रीय यूनियन की तैयारी शुरू 

साथियों मजीठिया वेजबोर्ड की लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाने के लिए काफी दिनों से एक राष्ट्रीय स्तर की यूनियन बनाने को लेकर आवाज उठ रही थी। इसे देखते हुए दिल्ली/नोएडा के साथियों के सहयोग से इस सोच को अमलीजामा पहनाने की योजना पर काम शुरू कर दिया गया है। 
पहले इस बात को लेकर मंथन हुआ कि क्या यूनियन के गठन के लिए पहले सभी साथियों की बैठक बुलाई जाए और फिर पंजीकरण की प्रक्रिया को अंजाम दिया जाए। फिर काफी सोच विचार के बाद तय किया गया है कि त्योहारी सीजन होने के कारण सभी का एकत्रित हो पाना संभव नहीं है। लिहाजा दिल्ली के नजदीक के साथियों की मदद से पहले यूनियन का गठन कर लिया जाए और फिर किसी दिन सभी की सुविधा अनुसार एक महासभा बुलाकर शक्ति प्रदर्शन किया जाए। 
फिलहाल तय हुआ है कि सभी राज्यों के मजीठिया क्रांतिकारी अपने-अपने समूह या जानकारी में चल रहे साथियों की एक सूची तैयार करें। इसमें व्यक्ति का नाम, स्थायी पता, संपर्क नंबर और  ईमेल आईडी सहित अंत में हस्ताक्षर की जगह रखी जाए। इस फारमेट को अंग्रेजी में टाइप करके इसका प्रिंट लेकर इसमें सभी के हस्ताक्षर करके इसे नीचे दिए पते पर भेज दिया जाए। इस आधार पर यूनियन की सदस्य संख्या तय हो जाएगी। पंजीकरण होने के बाद ही तय की गई पंजीकरण फीस सहित मासिक फीस के बारे में सबको उनकी ईमेल आईडी या व्हाट्सऐप ग्रुप के जरिये सूचित किया जाएगा। 
यूनियन के उद्देश्य, संविधान सहित अन्य योजनाओं की सूचना सार्वजनिक नहीं की जाएगी, इसकी जानकारी सदस्यों की ईमेल आईडी या मोबाइल ग्रुप के जरिये दी जाएगी। इस यूनियन का मकसद पहले से मौजूद यूनियनों की तरह राजनीति करने के बजाय कार्यरत, निश्कासित/बर्खास्त होने के बाद संघर्षरत और रिटायर हो चुके श्रमजीवी पत्रकारों और गैर पत्रकार समाचार पत्र कर्मचारियों को वेजबोर्ड लागू करवाने, सेवा शर्तों का पालन करवाने, आवश्यक सुविधाओं की मांग को उचित मंच पर उठाने से लेकर इनके अधिकारों की कानूनी लड़ाई लडऩे सहित कल्याण के लिए काम करना होगा। लिहाजा जो व्यक्ति पहले से किसी यूनियन का सदस्य है, वह भी इस सांझा उद्देश्य के लिए यूनियन का सदस्य बन सकता है। 
अपने-अपने क्षेत्र या समाचार पत्र के साथियों की सूची उपरोक्त फॉरमेट के अनुसार बनाकर पंजीकृत डाक के माध्यम से इस पतें पर भेजें: 
-रविंद्र अग्रवाल, वार्ड नंबर-8, कॉलेज रोड कांगड़ा, जिला कांगड़ा हिमाचल प्रदेश-176001, संपर्क नंबर: 9816103265,9736003265
इसके अलावा सूची की साफ्ट कापी मेल करके हस्ताक्षरित सूची भेजने की सूचना भी दे दें: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
 
आक्रोश4मीडिया इंडिया का no1 मिडिया पोर्टल है सिर्फ पत्रकार बन्धुओ के सहयोग से ही चल रहा है aakrosh4media.com हम व् हमारी आक्रोश की पूरी टीम आपकी राय और सुझावों की कद्र करती हैं। अतः आप अपनी राय, शिकायत , सुझाव और ख़बरें हमेंThis email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.  पर भेज सकते हैं या 9358606998 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। आक्रोश की आईडी है https://www.facebook.com/Aakrosh4media-608693262635672/ या आप ट्वीटर आईडी @aakrosh4media24 पर भी फॉलो कर सकते है

भारत के किसी भी अखबार का सर्कुलेशन और पूरा विवरण सिर्फ एक क्लिक पर

भारत सरकार के समाचार पत्रो के पंजीयन कार्यालय नई दिल्ली ने एक जानकारी आर टी आई के जरिए मांगी गई सूचना में मुम्बई के निर्भीक पत्रकार और आर टी आई एक्टिविस्ट शशिकांत सिंह को उपलब्ध कराई है।इस सूचना में समाचार पत्रों के पंजीयन कार्यालय ने बताया है कि कोई भी नागरिक  समाचार पत्रों के पंजीयन कार्यालय की वेबसाइट  www.rni.nic.in पर जाकर रजिस्टर्ड टाइटल पर क्लिक करके किसी भी समाचार पत्र के बारे में पूरी जानकारी ,  उसकी प्रसार संख्या से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकता है। साथ ही इसी वेबसाइट की   ई फाइलिंग ऑफ एनुअल स्टेटमेंट ऑफ 2016-17 में जाकर एनुअल स्टेटमेंट समिटेड में पूरी जानकारी अखबार के बारे में प्राप्त कर सकता है।10 अगस्त 2017 को यह जानकारी सहायक प्रेस पंजीयक रामकृष्ण पिल्लई नेआर टी आई में दी है।यह जानकारी समाचारपत्र कर्मियों के लिए बहुत ही काम कीहै।आप भी देखिए भारत सरकार के समाचार पत्रों के पंजीयन कार्यालय द्वारा उपलब्ध कराई गयी जानकारी से संबंधित पत्र।
शशिकांत सिंह
पत्रकार और आर टी आई एक्टिविस्ट 
9322411335
आक्रोश4मीडिया इंडिया का no1 मिडिया पोर्टल है सिर्फ पत्रकार बन्धुओ के सहयोग से ही चल रहा है aakrosh4media.com हम व् हमारी आक्रोश की पूरी टीम आपकी राय और सुझावों की कद्र करती हैं। अतः आप अपनी राय, शिकायत , सुझाव और ख़बरें हमेंThis email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.  पर भेज सकते हैं या 9358606998 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। आक्रोश की आईडी है https://www.facebook.com/Aakrosh4media-608693262635672/ या आप ट्वीटर आईडी @aakrosh4media24 पर भी फॉलो कर सकते है

पंचकुला में पत्रकारों पर हुए हमले और चैनलों की ओबी वेनो को फूके जाने के विरोध में हरिद्वार प्रेस क्लब ने दिया धरना

 

@aakrosh4media

हरिद्वार। हरियाणा के पंचकूला में राम रहीम को रेप केस में फैसला सुनाए जाने के दौरान पत्रकारों पर हुए हमले ओर विभिन्न चैनलों की ओबी वेनो को जलाने की घटनाओं के खिलाफ आज हरिद्वार प्रेस क्लब ने धरना देकर इसकी कड़ी निंदा की। हरिद्वार प्रेस क्लब ने पंचकुला की घटनाआ के बाद देश मे पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर गंभीर चिंता जताते हुए केंद्र सरकार से मीडिया आयोग का गठन करने और पत्रकारों की सुरक्षा के  लिए कड़ा  कानून बनाए की मांग की। प्रेस क्लब ने पत्रकारों पर हुए जानलेवा हमले ओर उनकी ओबी वैन ओर अन्य उपकरणों को नुकसान पंहुचाने के लिए मारपीट, बलवा, हत्या के प्रयास ओर आगजनी में गुरमीत राम रहीम ओर उनके गुंडों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने और पत्रकारों को मुआवजा देने की भी मांग की।
गुरमीत राम रहीम बलात्कार मामले में पंचकूला में 25 अगस्त को हुए हिंसा में पत्रकारों पर हुए हमले ओर उनकी ओबी वैन जलाए जाने से देश भर के पत्रकारों में आक्रोश है और एसे मौकों पर पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर गंभीर चिंता जताई जा रही है। हरिद्वार प्रेस क्लब ने अध्यक्ष मनोज सैनी ओर महामंत्री अमित कुमार के नेतृत्व में पहले काल 26 अगस्त को बैठक कर घटना के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया और आज 27 अगस्त को सिटी मजिस्ट्रेट कोर्ट परिसर में एक दिवसीय धरना देकर रोष प्रकट किया। धरने को संबोधित करते हुए अध्यक्ष मनोज सैनी ने पंचकूला घटना की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए पत्रकारों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की। उन्होंने हिंसा में मारे गए लोगो की हत्या के आरोप में राम रहीम पर हत्या की धाराओं मे मुकदमा दर्ज करने की मांग भी की।

@aakrosh4media

वरिष्ठ  पत्रकार पीएस चौहान ने कहा कि हरियाणा में पंचकुला में 25 अगस्त को देर सच्चा सौदा के गुंडों ने जिस तरह से पत्रकारों पर हमला किया और उनकी ओबी वेन्स को नुकसान पंहुचाया गया वो बेहद निंदनीय है। उन्होंने राम रहीम के खिलाफ पीड़ित महिला द्वारा लिखे बेनाम पत्र को अपने स्थानीय अखबार ने छापने वाले दिवंगत पत्रकार राम चंदेर छत्रपति को भी श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि जब बड़े बड़े अखबार ओर चेनल के साथ प्रशासन और शासन ने राम रहीम के खिलाफ सच को सामने लाने की हिम्मत नही की , ऐसे में उस छोटे से पत्रकार राम चंदेर ने पूरा सच नाम के अपने अखबार में उस पत्र को प्रकाशित किया था जिसके बाद कोर्ट ने स्वतः संज्ञान लेते हुए राम रहीम के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश दिए थे। प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष संजय आर्य ने धरने को संबोधित करते हुए कहा कि पंचकूला में पुलिस प्रशासन के सामने राम रहीम के गुंडे पत्रकारों को पीटते रहे, उनकी ओबी वैन तोड़फोड़ कर जलाई जाती रही, मगर पुलिस प्रशासन मूक दर्शक बना देखता रहा।ये हरियाणा सरकार की विफलता है। ऐसे में इस तरह में मोको पर पत्रकार अपने कर्तव्यो का निर्वहन करते हुए देश दुनिया के सामने जान की परवाह न कर अपने काम को बखूबी अंजाम देते रहे ये बेहद सराहनीय है। उन्होंने देश मे पत्रकारों की सुरक्षा के लिए कड़ा पत्रकार सुरक्षा कानून बनाये जाने की मांग की।उन्होंने सालो से चली आ रही राष्ट्रीय मीडिया आयोग का गठन भी किये जाने की मांग की।  साथ ही उन्होंने आजतक सहित अन्य चैनलों की ओबी वेन्स ओर गाड़िया जलाए जाने , ओर पत्रकार पर जानलेवा हमला कर घायल किये जाने वाले पत्रकारों और संस्थानों को उनके नुकसान का मुवावजा देने  पत्रकारों पर हमले ओर गाड़ियों व ओबी वेन्स को जलाए जाने पर राम रहीम ओर उसके समर्थकों पर हत्या की कोशिश, मारपीट करने, तोड़फोड़ व आगजनी करने के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की भी हरयाणा सरकार से मांग की। पर्व अध्यक्ष रजनीकांत शुक्ल ने भी घटना की निंदा करते हुए कहा कि केवल न्यायपालिका ओर मीडिया ही  चुनौतीपूर्ण ढंग से काम कर रही है। प्रेस को भले ही लोकतंत्र का चौथा स्तंभ माना जाता है मगर विधायिका, कार्यपालिका ओर न्यायपालिका की तरह प्रेस को संवैधानिक दर्जा नही मिला हुआ है।
आज हुए धरने में हरिद्वार प्रेस क्लब के सदस्यों  सहित 100 से ज्यादा पत्रकारों ने भाग लिया।

@aakrosh4media

अध्यक्ष मनोज सैनी ओर महामंत्री अमित कुमार के नेतृत्व में सिटी मजिस्ट्रेट मनीष कुमार  के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक ज्ञापन  भी दिया गया। धरने को पूर्व अध्यक्ष गुलशन नैयर, एनयूजे के अध्यक्ष राजेश शर्मा, श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के अध्यक्ष दीपक नौटियाल, वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व अध्यक्ष गोपाल रावत, वरिष्ठ पत्रकार कौशल सिखोला, आदेश त्यागी,  नरेश गुप्ता, अविक्षित रमन, रामचंद्र कन्नौजिया, राहुल वर्मा, राम अवतार संतोषी, श्रवण झा, धर्मेंद्र चौधरी, नवीन पांडेय, देवेंद्र शर्मा, त्रिलोक चंद भट्ट, कुमार दुष्यंत, शिवा अग्रवाल, मेहताब आलम, राजेन्द्र नाथ गोस्वामी, अहसान अंसारी ने भी संबोधित किया। धरना स्थल पर हरियाणा के पंचकुला में हुई घटना की निंदा करने वालों में  मुकेश वर्मा, दीपक मिश्रा, तनुज वालिया, राम सिंह, जोगेंद्र मावी, दीपक मिश्रा, नरेशदीवान शैली, अरुण मिश्र, परमजीत राणा, ठा. शैलेन्द्र सिंह, गोपाल  पतुवर, राम नरेश, अनिल भास्कर, अमित शर्मा, आशु शर्मा, आशीष मिश्रा, रोहित सीखोला, नवीन चौहान, रामेश्वर दयाल शर्मा, डॉ. हिमांशु द्विवेदी, काशीराम सैनी, राजकुमार, जहाँगीर आलम, देवेश, शुभम,  म. शिवशंकर गिरि, कुलभूषण शर्मा, लव कुमार शर्मा, अमर सिंह, संतोष उपाध्याय, महावीर नेगी, विकास चौहान, स्वरूप पूरी, सुनील मिश्रा, मनोज कुमार खन्ना, सूर्यकान्त बेलवाल, संदीप रावत, नरेश गुप्ता, चन्द्रशेखर जोशी, मयूर सैनी, के.के. पालीवाल, शिवप्रकाश तथा सुभाष कपिल , वासुदेव राजपूत, सहित प्रेस क्लब के अधिकांश सदस्यों ने मीडिया आयोग का गठन कर  पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की मांग की। धरने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक ज्ञापन हरिद्वार सिटी मजिस्ट्रेट मनीष कुमार के माध्यम से भेजा गया।

जी न्यूज के पत्रकार आरबी दुबे ने बेटी से किया रेप

जी न्यूज के पत्रकार ने बेटी से किया रेप, बाप को पीटा, रिपोर्ट दर्ज नही कर रही एटा पुलिस
एटा। जी न्यूज के पत्रकार ने एक युवती के साथ रेप किया। मामले में पुलिस को तहरीर देने पर दबंग पत्रकार ने पीड़िता के पिता को बेरहमी से पीटा और पुलिस से तहरीर वापस लेने की धमकी दी है। पत्रकार के खौफ से पीड़ित परिवार ही बल्कि पुलिस भी खौफजदा है। इस मामले में एटा की मीडिया के मुंह पर ताला लगा हुआ है और आला अधिकारी पत्रकार के आगे नतमस्तक हैं।
सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तहरीर के मुताबिक जी न्यूज के पत्रकार आरबी दुबे ने एटा की न्यू आजाद नगर कॉलोनी निवासी ज्ञान प्रकाश पुत्र कृष्ण किशोर दीक्षित की बेटी के साथ रेप किया है। मामले में पीड़ित ने पुलिस को लिखित तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की तो पुलिस ने कार्रवाई करने के बजाय जी न्यूज के पत्रकार आरबी दुबे की मुखबिर बन गई।
मामले में तहरीर दिए जाने से बौखलाये पत्रकार ने पीड़िता के पिता को बेरहमी से पीटा और तहरीर वापस लेने की धमकी देने के साथ बड़े टीवी चैनल की तोप से मजलूम की इज्जत के चीथड़े उड़ा देने की भी धमकी दी है। इस मामले में पुलिस विभाग के आला अधिकारी मूकदर्शक बने हुए हैं। क्योंकि उन्हें भी डर है कि अगर उन्होंने इस बड़े पत्रकार के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज किया तो बड़े टीवी चैनलों की तोप के मुंह उनकी तरह हो सकते हैं और टीवी चैनल की तोप से निकला झूठ सच का बारूद उनकी नौकरी के लिए घातक साबित हो सकता है।
इस बड़े पत्रकार के खौफ से खौफजदा पुलिस विभाग के आला अधिकारी जिले के समस्त थानों और अपने कार्यालयों के बाहर साफ साफ लिखवा दें कि यहां मजलूमों को न्याय नही मिलता है और दबंगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नही होती है। ऐसा लिखवाने से दस्तावेजों में अपराध का ग्राफ न्यूनतम हो जाएगा।

अमन पठान एटा यूपी 

आक्रोश4मीडिया इंडिया का no1 मिडिया पोर्टल है सिर्फ पत्रकार बन्धुओ के सहयोग से ही चल रहा है aakrosh4media.com हम व् हमारी आक्रोश की पूरी टीम आपकी राय और सुझावों की कद्र करती हैं। अतः आप अपनी राय, शिकायत , सुझाव और ख़बरें हमेंThis email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.  पर भेज सकते हैं या 9358606998 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। आक्रोश की आईडी है https://www.facebook.com/Aakrosh4media-608693262635672/ या आप ट्वीटर आईडी @aakrosh4media24 पर भी फॉलो कर सकते है