* *** आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media2016@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *** *

पत्रकार को लगी दिल्ली के हुए साम्प्रदायक हमले में चोट,आए सर में चार टाँके

02-07-2019 19:23:07 पब्लिश - एडमिन


पुरानी दिल्ली के हौजकाजी इलाके में स्कूटर पार्किंग का विवाद क्या हुआ की एक पत्रकार को इसका शिकार होना पड़ गया हुआ यु की सोमवार जब दो संप्रदायों के बीच जमकर संघर्ष हुआ तो एनबीटी के फोटो ग्राफर सुरेंद्र कुमार इस खबर को कवरेज करने जा पहुंचे पर सुरेंद्र कुमार ये नहीं पता था की ये खबर करना उनकी जान की आफत बन जाएगा वहा हंगामा कर रहे कुछ लोगो ने एनबीटी के पत्रकार पर भी हमला कर दिया जिससे उनके सर में चोट लग गई जिसमे सुरेंद्र कुमार के सिर में चार टांके आए जब इस बात का पता वहा कवरेज कर रहे अन्य मीडिया कर्मियों को लगा तो वहा खड़े कुछ लोगो ने भी अन्य मीडिया कर्मियों के साथ हाथापाई करना शुरू कर दिया इस हंगामे में उपद्रवियों ने ‘मेल टुडे’ अखबार के फोटो ग्राफर कमर सक्तैन का कैमरा भी छीन लिया जिसके बाद वहां के कुछ लोगो द्वारा  ‘मेल टुडे’ अखबार के फोटो ग्राफर कमर सक्तैन का कैमरा वापिस कराकर उपद्रवियों को वहां से भगाया गया 

ये भी पढ़े -- पत्रकारों के लिए सरकारी जॉब का ऑफर

सुरेंद्र कुमार के अनुसार, ‘भीड़ मुझे पीटती हुई सीढ़ियों से खींचकर ले आई। इस बीच मैं मौका पाकर सामने खड़ी पुलिस जिप्सी की ओर भागा। जिप्सी के बाहर पुलिसवाले खड़े हुए थे और अंदर ड्राइवर बैठा हुआ था, मैंने उनसे कहा कि मुझे बचाओ और गाड़ी मैं बैठा लो, लेकिन ड्राइवर ने खिड़की का शीशा ऊपर करते हुए मुझे भगा दिया और बोला कि यहां मत आओ, पीछे जाओ। पुलिसवालों में से भी किसी ने मुझे भीड़ से बचाने की कोशिश नहीं की। मुझे मारने वाले सिर्फ 15-20 लड़के ही थे, बाकी भीड़ खड़ी थी। मेरे सामने ही कम से कम 20 हथियारबंद पुलिसवाले खड़े थे लेकिन इन लड़कों के सामने ये पुलिसवाले मूकदर्शक बनकर खड़े रहे और मुझे बचाने की कोई कोशिश नहीं की।’सुरेंद्र कुमार ने अपनी आपबीती बताते हुए कहा,’उपद्रव की खबर सुनकर मैं दोपहर करीब एक बजे अपने रिपोर्टर साथी के साथ हौज काजी पहुंचा। हौज काजी थाने के पास सीकरीवालान मोहल्ले में अचानक बेकाबू भीड़ धार्मिक नारे लगाती हुई थाने की ओर बढ़ती दिखी। मैंने भीड़ के कुछ फोटो लिए और फिर आगे बढ़ गया। इसके बाद मैंने एक परिवार से इजाजत लेकर उनके घर की छत पर चढ़कर फोटो खींचना शुरू कर दिया। इस बीच भीड़ में से कुछ लोगों ने मुझे छत से फोटो खींचते हुए देखा और फिर उसमें शामिल 15-20 लड़कों ने छत पर चढ़कर मेरे साथ जमकर मारपीट शुरू कर दी।

(दिल्ली से पत्रकार राहुल तिवारी की खबर के आधार पर)  


आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें 


 

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !