* आक्रोष4मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! आक्रोष4मीडिया को सभी पत्रकार भाइयों की राय और सुझाव की जरूरत है ,सभी पत्रकार भाई शिकायत, अपनी राय ,सुझाव मीडिया जगत से जुड़ी सभी खबरें aakrosh4media@gmail.com व वव्हाट्सएप्प पर भेजें 9897606998... |संपर्क करें 9411111862 .खबरों के लिए हमारे फेसबुक आई.डी https://www.facebook.com/aakroshformedia/ पर ज़रूर देखें *

तथाकथित पत्रकार झूठी शिकायतें कर स्थानीय निवासियों को कर रहा है परेशान

04-01-2018 14:58:46 पब्लिश - एडमिन


व्यापारी ने लगाया संदिग्ध व्यक्ति पर मानसिक उत्पीड़न का आरोप, तथाकथित पत्रकार झूठी शिकायतें कर स्थानीय निवासियों को कर रहा है परेशान

हरिद्वार, 04 जनवरी। शांतिकुुंज के निकट मालवीय कॉम्पलैक्स निवासी तथाकथित पत्रकार राजेश द्विवेदी स्थानीय निवासियों की झूठी शिकायत कर लम्बे अर्से से उन पर रौब गालिब कर रहा है। तथाकथित पत्रकार की झूठी शिकायतों से परेशान टैªवल्स व्यवसायी रवि चावला ने डीजीपी उत्तराखण्ड के दरबार में गुहार लगाकर तथाकथित पत्रकार के खिलाफ मानसिक उत्पीड़न व मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार सप्त सरोवर रोड स्थित मदन मोहन कॉम्पलैक्स के प्रथम तल पर स्थित फ्लैट में विगत तीन वर्षों से निवास कर रहे राजेश द्विवेदी का स्थानीय जनों से लम्बे समय से विवाद चल रहा है। कथित पत्रकार स्थानीय निवासियों व दुकानदारों की शिकायतें पुलिस व सम्बन्धित विभागों को निरन्तर करता आ रहा है। जिस कारण स्थानीय दुकानदार अपना व्यवसाय चलाने में भी भारी परेशानी का सामना कर रहे हैं। कभी पुलिस तो कभी जिला प्रशासन तो कभी जिला आपूर्ति अधिकारी को झूठी शिकायतें कर कथित पत्रकार ने स्थानीय दुकानदारों पर भय का वातावरण बनाकर अपना दबदबा स्थापित करने का प्रयास किया। कथित पत्रकार के मानसिक उत्पीड़न से आहत स्थानीय टैªवल्स व्यवसायी रवि चावला ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से लेकर डीजीपी के दरबार में अपनी गुहार लगाते हुए कथित पत्रकार की जांच करवाकर कड़ी कार्रवाई की मांग की। डीजीपी महोदय के हस्तक्षेप के पश्चात पुलिस की जांच में भी उक्त व्यक्ति संदिग्ध पाया गया। रवि चावला की शिकायत पर थाना रायवाला में उक्त व्यक्ति के खिलाफ 500, 504 धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया। 

टैªवल्स व्यवसायी रवि चावला ने मांग की है कि उक्त व्यक्ति की एलआईयू जांच करवाकर इसकी आजीविका के साधन व पृष्ठभूमि का खुलासा किया जाये कि उक्त व्यक्ति किस योजना के तहत स्थानीय निवासियों का मानसिक उत्पीड़न कर रहा है। उन्होंने पुलिस प्रशासन से मांग की है कि उक्त व्यक्ति का भौतिक सत्यापन भी शीघ्र कराया जाये। जिससे क्षेत्रवासियों को उक्त व्यक्ति के भय व उत्पीड़न से निजात मिल सके।   

( हरिद्धार से आक्रोश को भेजे गए एक मेल के आधार पर ) 

अपनी राय नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखें !